आदिवासी खाते की जमीन खरीदिये... और CMPDI की क्रिकेट टीम में जगह बनाईये !
sportsjharkhand.com टीम रांची
2019-12-22
किसी जमाने में रणजी क्रिकेटरों से सजी रहनेवाली CMPDI की टीम में चयन का पैमाना अब बदल गया है। अब क्रिकेट टीम में चयन के लिए बल्लेबाज़ी, गेंदबाज़ी व क्षेत्ररक्षण में निपुणता की जरूरत नही। बल्कि जमीन के धंधे में शामिल चयनकर्ताओं की जमीन उनकी शर्तों पर खरीदें और टीम में जगह सुनिश्चित करें। हाल ही में सम्पन्न कोल इंडिया अंतर कोल क्रिकेट प्रतियोगिता के लिए CMPDI की टीम चयन के दौरान ऐसा ही एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। 27 नवंबर को CMPDI टीम का चयन था। एक सलामी बल्लेबाज का चयन उसके प्रदर्शन के आधार पर फाइनल था। सभी चयनकर्ता एकमत थे लेकिन एक पूर्व रणजी क्रिकेटर जो चयनकर्ता/कोच/मैनेजर की भूमिका में थे, उन्होंने इस बल्लेबाज की जोरदार मुख़ालफ़त की। नतीजा पिछले कई वर्षों से CMPDI की टीम का हिस्सा रहा वो सलामी बल्लेबाज टीम से बाहर कर दिया गया। पता हो कि CMPDI में कार्यरत ये बल्लेबाज पिछले कई वर्षों से लगातार रांची में सुपर डिवीज़न व A डिवीज़न क्रिकेट लीग का सफलतापूर्वक हिस्सा रहा है।  


 



क्यों बाहर हुआ बल्लेबाज ?  


 ज़मीन धंधे में शामिल पूर्व रणजी क्रिकेटर जो चयनकर्ता/कोच/मैनेजर की भूमिका में थे, उन्होंने दो-तीन साल पहले उस बल्लेबाज को एक जमीन खरीदने का ऑफर दिया। बल्लेबाज ने जमीन की जानकारी ली तो पता चला कि वो आदिवासी खाते की जमीन है। फिर खरीदने से इनकार कर दिया। इसके बाद उस बल्लेबाज को पिछले साल CMPDI की टीम में ओपनिंग से हटाकर लोअर ऑर्डर में भेजा जाने लगा और जमीन खरीदने का दवाब बनाया गया। अंततः इस साल टीम से बाहर भी कर दिया गया। बताया जाता है जमीन धंधे में शामिल पूर्व रणजी क्रिकेटर ने आदिवासी खाते के उस प्लाट को अपने वरीय अधिकारी को बेचा था। अब वरीय अधिकारी दवाब बना रहा था तो बल्लेबाज को फांसना चाह रहा था।  



 

जमीन व वोट का पुराना दलाल है पूर्व रणजी क्रिकेटर 


 CMPDI में कार्यरत पूर्व रणजी क्रिकेटर जमीन व वोट की दलाली का पुराना खिलाड़ी रहा है। लगभग डेढ़ दशक से वो इस धंधे में शामिल है। जिस अल्पसंख्यक समाज से वो रणजी खिलाड़ी आता है उस समाज के लोगों की जमीन कांके रोड में काफी है। 2014 के लोकसभा चुनाव में क्रिकेट के तत्कालीन झंडाबरदार को भी वोट का सब्जबाग दिखाया था। 


 नोट : कुछ पूर्व क्रिकेटरों की इच्छा का सम्मान करते हुए बल्लेबाज व पूर्व रणजी क्रिकेटर का नाम हमने सार्वजनिक नहीं करने का निर्णय लिया है