राष्ट्रीय खेल घोटाले में चार्जसीटेड एस एम हाशमी की अध्यक्षता वाली IKCA को 17 माह बाद केंद्रीय खेल मंत्रालय ने दी मान्यता 
sportsjharkhand.com टीम रांची
2019-11-03

आखिरकार 17 माह के इंतज़ार के बाद केंद्रीय खेल मंत्रालय ने भारतीय कयाकिंग कैनोइंग संघ (IKCA) की मान्यता बहाल कर दी है। विभाग की ओर से इस निमित एक आदेश 12 सितंबर को जारी किया गया है जिसपर माननीय खेल मंत्री किरण रिजुजी की सहमति है। पता हो कि 13 अप्रैल 2018 को भोपाल में आयोजित AGM सह चुनाव में एस हाशमी को लगातार दूसरे टर्म के लिए अध्यक्ष चुन लिया गया था। पिछले 17 माह से IKCA को मान्यता नहीं मिल पाई थी जिस कारण आर्थिक समस्याएं सामने आ रही थीं। बिहार कयाकिंग कैनोइंग संघ ने केंद्र सरकार के इस फैसले को न्यायालय में चुनौती देने का मन बनाया है और जल्द ही दिल्ली उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया जा सकता है।




पूर्व खेल मंत्री कर्नल राज्यवर्द्धन सिंह राठौड़ के समय नहीं मिली मान्यता 


IKCA का चुनाव जब हुआ तो उस वक़्त खेल मंत्री कर्नल राज्यवर्द्धन सिंह राठौड़ थे। चुनाव से ठीक पहले एक शिकायत के आलोक में कर्नल राज्यवर्द्धन सिंह राठौड़ ने झारखंड राष्ट्रीय खेल घोटालों की जांच कराने संबंधी एक पत्र झारखंड सरकार को भेजा था। केंद्रीय खेल मंत्रालय के सूत्र बताते हैं कि इसी कारण IKCA को कर्नल राज्यवर्द्धन सिंह राठौड़ के खेल मंत्री रहते मान्यता नहीं मिल पाई थी। अब मंत्री बदलते ही 4 माह के अंदर मान्यता मिल गई है। बिहार कयाकिंग कैनोइंग संघ ने केंद्र सरकार के इस फैसले का खुलकर विरोध किया है।