8 लाख मांग रहा है PN... आप बात करो ना मेरे लिए PN से... 5 साल में मेरे तो 20-25 लाख खर्च हो गए...

2019-03-14

sportsjharkhand.com टीम

रांची


झारखंड क्रिकेट टीम में चयन का रेट क्या है ? सवाल इसलिए कि एक पखवाड़े पहले एक स्टिंग ऑपरेशन में RDCA के निलंबित सचिव मोहम्मद वसीम ने 3 लाख रुपया का रेट बताया था। एक और ऑडियो वायरल हो रहा है, जिसमे रेट 8 लाख रुपया बताया जा रहा है। मतलब 8 लाख दो और टीम में जगह बनाओ ! औडियो टेप में दर्ज बातचीत बता रही है कि पहले रेट 6 लाख का था और रकम लेनेवाला शख्स कोई PN है। PN ने एक खिलाड़ी से 8 लाख रुपये की मांग कर दी, वो खिलाड़ी सशंकित था इसलिए उसने इस विषय में अपने सीनियर से सलाह-मशविरा किया। दरअसल इस वायरल ऑडियो में दो क्रिकेटरों के बीच की बातचीत दर्ज है। कथित तौर पर एक आवाज़ मेरठ निवासी व झारखंड U 23 टीम का सदस्य रह चुके संदीप सिंह की है और दूसरी ओर एक नवोदित खिलाड़ी, जिसका नाम पता नहीं चल पाया है। इस ऑडियो में एक शख्स PN का नाम बार-बार आ रहा है, जो पैसे लेकर टीम में जगह दिलाने के काम में लगा है। ऑडियो में दर्ज बातचीत में दूसरा शख्स देव भैया है, जो खिलाड़ियों और PN के बीच की कड़ी के तौर पर है। पूरी ऑडियो सुनने पर ये साफ हो जाता है कि झारखंड टीम में प्रतिभा से इतर पैसों के बल पर चयन का काला खेल चल रहा है। संदीप बताता है कि झारखंड से खेलने के लिए उसने अब तक 25 लाख रुपये खर्च कर चुका है। ऑडियो अक्टूबर से दिसंबर 2018 के बीच का बताया जा रहा है। पता हो कि बुधवार को ही BCCI के भ्रष्टाचार ब्यूरो ने झारखंड-बिहार में टीम चयन में बाहरी खिलाड़ियों का पैसे के दम पर खेलने संबंधी स्टिंग ऑपरेशन के बाद मामला दर्ज कराया है। (पूरी औडियो इस खबर की लिंक के साथ नीचे दी गई है)



कौन है ये PN और देव भैया ? 

झारखंड राज्य क्रिकेट संघ (JSCA) में ये PN कौन है, जो पैसे लेकर क्रिकेटरों की जगह टीम में पक्की कराता है। देव भैया कौन है ये भी जानना बेहद ज़रूरी है। क्रिकेट को फॉलो करनेवालों के लिए दोनों नाम नए नहीं हैं, लेकिन बिल्ली के गले मे घंटी बांधे कौन ? JSCA के अंदर व बाहर नज़रें दौड़ाने पर तस्वीर साफ हो जाएगी कि PN और देव भैया कौन है ?




नोट : sportsjharkhand.com ऑडियो की प्रामाणिकता साबित नहीं करता और ऑडियो में दर्ज बातों से हमारी मंशा किसी को बदनाम करने की नही है। ऑडियो सामने आने के बाद पत्रकारिता के उचित मापदंडों के अनुसार जनहित में खबर का प्रकाशन किया गया है।