Sports Jharkhand
राष्ट्रीय खेल सम्मान राशि घोटाला : आखिरी नोटिस के बाद बॉक्सिंग कोच बीके जेना ने लौटाई राशि
2019-03-01  21:13:59

sportsjharkhand.com टीम

रांची


राष्ट्रीय खेल के बाद प्रशिक्षकों द्वारा सरकार के संकल्प के प्रतिकूल जाकर ज्यादा सम्मान राशि लेने के एक आरोपी बॉक्सिंग कोच बी के जेना नियमानुकूल अतिरिक्त राशि बिनाशर्त लौटा रहे हैं। बीके जेना ने एक पखवाड़े पहले 50 हज़ार रुपये का चेक खेल निदेशालय को दे दिया है और आर्थिक कारणों का हवाला देते हुए बाकि 2 लाख रुपये के भुगतान के लिए 10 माह का वक़्त मांगा। विभाग के निदेशक ने उन्हे छह माह का वक़्त दिया है, जिसपर बीके जेना राजी हो गए हैं। पता हो कि बीके जेना को सरकार के संकल्प के अनुसार 2 लाख की ही पुरस्कार राशि मिलनी थी लेकिन उन्हें 4 लाख 50 हज़ार रुपये का भुगतान हो गया था। बीके जेना को सिर्फ एक स्वर्ण पदक के लिए पुरस्कृत किया जाना था लेकिन उन्हें 2 स्वर्ण व एक कांस्य पदक के लिए पुरस्कृत किया गया था। निदेशालय बीके जेना पहले प्रशिक्षक हैं जिन्होंने सर्टिफिकेट केस दर्ज कराने की प्रक्रिया से पहले ही सरकार को राशि लौटाने का निर्णय लिया है।



खेल निदेशालय ने प्रशिक्षकों को फरवरी में जारी किया था आखिरी नोटिस


खेल निदेशालय ने लगभग एक दर्जन खेल प्रशिक्षकों को सबसे पहले 21 अप्रैल 2015 को नोटिस जारी कर संकल्प के विरुद्ध ज्यादा ली गई सम्मान राशि वापस करने का नोटिस दिया था। इस नोटिस के बाद विभाग के अधिकारी गहरी निंद्रा में चले गए। चार साल बाद 4 जनवरी 2019 को दूसरा नोटिस जारी किया गया और फिर 1 फरवरी को आखिरी नोटिस जारी किया गया। अब विभाग की ओर से सभी आरोपी प्रशिक्षकों पर सर्टिफिकेट केस करने की कार्रवाई की जाएगी। 



इन्हें भेजा गया था आखिरी नोटिस 


निदेशालय की ओर से प्रशिक्षकों को 28.5 लाख रुपये की वापसी के लिए प्रशिक्षकों को आखिरी नोटिस जारी किया गया। इसमे भोलानाथ सिंह से 5.5 लाख, मधुकांत पाठक से 5 लाख, सुमिर कुमार शर्मा से 50 हज़ार, शैलेन्द्र नाथ दुबे से 2 लाख, एल प्रदीप कुमार सिंह से 2 लाख, जीडी मूर्ती से 1 लाख, ई लकड़ा से 3 लाख रुपये और अन्य प्रशिक्षकों को अतिरिक्त सम्मान राशि वापसी का नोटिस थमाया गया।


सरकार ने विधिसम्मत कार्रवाई करते हुए ज्यादा सम्मान राशि लेने के आरोपी प्रशिक्षकों को नोटिस जारी किया था। एक प्रशिक्षक ने राशि वापस भी कर दी है। ये सुखद पहल है। जो प्रशिक्षक अतिरिक्त राशि वापस नहीं करेंगे उनपर जल्द ही सर्टिफिकेट केस किया जाएगा।


अनिल कुमार सिंह, खेल निदेशक