Sports Jharkhand
काले-गुलाबी गांधी जी के चक्कर में मो वसीम व अमलेश कुमार हुए हिट विकेट, JSCA ने किया सस्पेंड
2019-02-21  19:28:27

sportsjharkhand.com टीम

रांची


अपनों पे करम, गैरों पे सितम के मार्ग पर चलनेवाले झारखंड राज्य क्रिकेट संघ (JSCA) ने बदली हुई परिस्थितियों में अपने दो-दो सचिवों को सस्पेंड करने पर विवश होना पड़ा। लाल-काले-गुलाबी नोटों की सोंधी खुशबू की चाह में रांची जिला क्रिकेट संघ (RDCA) के सचिव मो वसीम व लोहरदगा जिला क्रिकेट संघ (LDCA) के सचिव अमलेश कुमार ने जिला व राज्य क्रिकेट संघों की पोल ऐसी खोली कि सस्पेंशन के पत्र से उसे ढंकने का प्रयास किया जा रहा है। बुधवार को TV चैनल पर क्रिकेटर बनने का पैकेज बताने/समझानेवाले दोनों सचिवों को JSCA ने लाइन हाजिर कर दिया। RDCA के निलंबित सचिव मो वसीम की आजीवन सदस्यता भी खतरे में आ गयी है, आजीवन सदस्यता खत्म क्यों ना कि जाए इस संदर्भ में भी कारणपृच्छा की गई है।



JSCA स्टेडियम में बुलाकर लगाई डांट, सौंपा शो-कॉज़, स्टेडियम से दूर रहने की हिदायत


JSCA के सचिव ने गुरुवार की दोपहर 12 बजे के करीब मो वसीम को स्टेडियम परिसर में बुलाया। जमकर झाड़ लगाने के बाद शो-कॉज़ सौंपा गया और शख्त ताकीद दी गई कि अब आप स्टेडियम परिसर के आस-पास न दिखें। ये ताकीद इसलिए कि गई है कि आगामी 8 मार्च को रांची में भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच वनडे इंटरनेशनल मैच होना है और JSCA के लिए वसीम का स्टेडियम के आसपास भटकना परेशानी का सबब बन सकता है।



JSCA को इस बार ढूंढना होगा नया ड्रेसिंग रूम ऑफिसियल !


रांची में जब भी इंटरनेशनल/IPL जैसे बड़े मैचों का आयोजन हुआ तब से ड्रेसिंग रूम ऑफिसियल (वह कमरा जहां टीम मैच के दौरान रहती है) के रूप में एक नाम कॉमन रहा मो वसीम। बाकि ऑफिसियल बदलते रहे लेकिन वसीम अंगद की पांव की तरह जमे रहे लेकिन इस बार बदली हुई परिस्थितियों में JSCA को एक नया ड्रेसिंग रूम ऑफिसियल ढूंढना होगा।



जांच समिति पर उठे सवाल


JSCA ने मो वसीम को निलंबित करते हुए तीन सदस्यीय जांच समिति भी बनाई है। समिति में जमशेदपुर के पार्थसारथी सेन और रांची के संजय सहाय व राजकुमार शर्मा को जगह दी गई है। JSCA पर नजर रखनेवाले क्रिकेटप्रेमियों व पूर्व पदाधिकारियों ने JSCA के इस फैसले पर सवाल खड़े किए हैं और कहा है कि जब राज्य संघ ने ओम्बड्समैन की नियुक्ति हो चुकी है तो मामला ओम्बड्समैन को ही जाना चाहिए था। कमिटी के दो सदस्य RDCA में मो वसीम के सहकर्मी/पदधारी रहे हैं, ऐसे में जांच समिति स्वयं संदेह के घेरे में है।



कोषाध्यक्ष शैलेन्द्र कुमार बनाए गए RDCA के सचिव, औपचारिक घोषणा शेष


पिछले दो दशक से RDCA की सेवा कर रहे व वर्तमान कोषाध्यक्ष शैलेन्द्र कुमार संघ के नए सचिव होंगे। गुरुवार को अध्यक्ष अविनाश कुमार की अध्यक्षता में हुई बैठक में इसका निर्णय ले लिया गया है। चेयरमैन की हामी के बाद इसे जारी कर दिया जाएगा। बैठक में यह भी फैसला लिया गया कि संघ के सभी पदाधिकारी क्रिया-कलापों में रुचि लें।


JSCA-RDCA के चंगू-मंगू की जोड़ी टूट के कगार पर 


JSCA व RDCA के चंगू-मंगू की जोड़ी के नाम से विख्यात मो वसीम व मो उजैर की जोड़ी आखिरकार टूट के कगार पर पहुंच गई है। मो वसीम को काले-गुलाबी गांधी जी से अत्यधिक प्यार दर्शाने के कारण सस्पेंड किया जा चुका है। ये तय है कि 8 मार्च के बाद किसी भी वक़्त वसीम का पत्ता JSCA व RDCA से साफ हो जाएगा, सिर्फ औपचारिकता शेष है। वसीम-उज्जैर पिछले दो दशक से अमिताभ चौधरी के खासमखास रहे हैं। इसी का नतीजा था कि 2014 में बदली हुई परिस्थितियों में मो वसीम को RDCA का सचिव मनोनीत किया गया था। अब क्रिकेट को लेकर ये जोड़ी तो टूट गयी है लेकिन निजी जीवन में ये जोड़ी बनी रहे यही कामना है।


मो वसीम व अमलेश कुमार तो JSCA में व्याप्त भ्रष्टाचार के छोटे प्यादे हैं। उच्चस्तरीय जांच होनी चाहिए जिससे की इस कुकर्म के सर्वेसर्वा भी पकड़ में आएं। जांच कमिटी का गठन ऑय वाश है।

सुनील सिंह, पूर्व सचिव RDCA